होम आइसोलेशन में घबराने की जरूरत नहीं, रहें सतर्क

    0
    144
    Share
    •  
    •  
    •  
    •  
    •  
    •  
    •  

    14 दिन के बाद पूरी तरह से हो जाएंगे स्वस्थघर के लोगों से संपर्क में आने की कोशिश से बचें

    भागलपुर

    कोरोना का संक्रमण लगातार बढ़ता ही जा रहा है। अस्पतालों में बेड भरते जा रहे हैं। ऐसे में अब स्वास्थ्य विभाग ने होम आइसोलेशन में इलाज की व्यवस्था किया है। होम आइसोलेशन में भेजते वक्त एक कीट मरीज को उपलब्ध कराया जा रहा है, जिसमें दवा और मास्क के साथ जरूरी सामान उपलब्ध कराया जा रहा है। ऐसे में अगर आपका कोरोना टेस्ट पॉजिटिव आया है तो घबराने की जरूरत नहीं है। कोरोना के हल्के लक्षण वाले मरीज 14 दिन तक होम आइसोलेशन में रहकर बिल्कुल ठीक हो सकते हैं। हां, होम आइसोलेशन के दौरान डॉक्टर के निर्देशों का सख्ती से पालन करना चाहिए।नारायणपुर पीएचसी के प्रभारी डॉ. बिजयेंद्र कुमार विद्यार्थी कहते हैं होम आइसोलेशन के दौरान घर में कोरोना मरीज के लिए अलग हवादार कमरा और टॉयलेट होना अनिवार्य है। अगर ऐसा नहीं हैं, तो आप इसकी जानकारी अपने डॉक्टर को जरूर दें, ताकि अस्पताल में कोविड केयर सेंटर में आपके लिए व्यवस्था की जा सके। कोरोना पॉजिटिव व्यक्ति की देखभाल के लिए एक व्यक्ति का होना बेहद जरूरी है। अगर परिवार का कोई सदस्य या बुजुर्ग जिनकी उम्र 55 साल से ज्यादा है या घर में कोई गर्भवती महिला या फिर गंभीर बीमारी से जूझ रहा कोई मरीज है, तो कोरोना मरीज के ठीक होने तक उनको किसी रिश्तेदार के घर ठहराने की व्यवस्था करें। हमेशा मास्क का इश्तेमाल करेंहोम आइसोलेशन में रहने के दौरान हमेशा मास्क का इस्तेमाल करें और 8 घंटे उपयोग के बाद उसे फेंक दें। अगर मास्क गीला या गंदा हो जाता है, तो उसको तुरंत बदल दें। ऐसा करने से आप तो सुरक्षित रहेगे ही। घर के अन्य सदस्य भी सुरक्षित रहेंगे। इसलिए घर पर रहते वक्त मास्क का इश्तेमाल हर हाल में करें। एक ही कमरे में रहेंहोम आइसोलेशन के दौरान अपने कमरे में ही रहें और घर के दूसरे कमरों में न जाएं। साथ ही दरवाजे, टेबल जैसी चीजों को छूने से बचें, जिससे घर के अन्य सदस्यों के कोरोना की चपेट में आने का खतरा न रहे। कोरोना मरीज अपने कमरे की खिड़कियां हमेशा खुली रखें और अलग टॉयलेट का इस्तेमाल करें। अपने हाथों को साबुन से कम से कम 40 सेकंड तक अच्छे से धोएं या सेनिटाइजर से साफ करें। घर के दूसरे सदस्यों से अपनी निजी वस्तुओं यानी कपड़े, बर्तन समेत अन्य चीजों को साझा न करें। डॉक्टर द्वारा बताई गई दवा का सेवन करेंकोरोना मरीज होम आइसोलेशन के दौरान डॉक्टर द्वारा बताई गई दवा को नियमित रूप से लेते रहें। अगर आप किसी अन्य बीमारी की दवाएं लेते हैं, तो डॉक्टर की सलाह जरूर लें। कोरोना मरीज रिकवरी पीरियड के दौरान धूम्रपान न करें। साथ ही भरपूर आराम करें और शरीर में पानी की कमी नहीं होने दें। इसके लिए सूप, जूस और पानी आदि लेते रहें। भोजन के साथ फलों का सेवन करें। टीवी देखकर समय गुजारेंहोम आइसोलेशन के दौरान कोरोना मरीज मोबाइल और अन्य ऑनलाइन माध्यम से अपने परिजनों और करीबियों से बातचीत करते रहें। इस दौरान टीवी देखकर और कंप्यूटर में काम करके भी समय गुजारा जा सकता है। इससे मन भी लगेगा और मानसिक तौर पर भी स्वस्थ रहेंगे। परेशानी होने पर डॉक्टर से संपर्क करेंअगर होम आइसोलेशन के दौरान कोरोना मरीज को सांस लेने में दिक्कत होती है या फिर छाती में लगातार दर्द व दबाव होता है तो तत्काल डॉक्टर से संपर्क करें। मानसिक भ्रम होने या फिर होठों व चेहरों के नीले पड़ने पर स्वास्थ्यकर्मी से तत्काल संपर्क करें। साथ ही कोरोना मरीज की देखरेख करने वाले को भी पूरी सावधानी बरतनी चाहिए।

    LEAVE A REPLY

    Please enter your comment!
    Please enter your name here