होम आइसोलेशन में है तो नियमों का करें पालन, तभी कोरोना से होगा बचाव

0
462
Share
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  

संक्रमित मरीज होम आइसोलेशन के दौरान कर रहे नियमों को नजरअंदाज 


मुंगेर,14 जुलाई: कोविड-19 संक्रमण से बचाव के नियमों का पालन करने के लिए लोगों से स्वास्थ्य विभाग की अपील की जा रही है. भीड़भाड़ वाली जगहों पर जाने से बचने, घर से बाहर निकलने पर मास्क लगाने, हाथों की नियमित 40 सेकेंड तक सफाई व ऐसे ही अन्य नियमों के जानकारी देते हुए इनके पालन को स्वास्थ्य विभाग सुनिश्चित कराने में लगा है. वहीं दूसरी ओर सरकार द्वारा सामान्य स्थिति वाले संक्रमित मरीजों को होम आइसोलेशन करने का निर्देश भी जारी किया गया. हालाँकि इसके लिए कई आवश्यक गाइलाइन भी जारी की गई. इन गाइडलाइन का होम आइसोलेशन में रहने वाले मरीजों को अक्षरत: सौ फीसदी पालन करना अनिवार्य होगा. किन्तु जानकारी के अभाव में ऐसे मरीज सामान्य लोगों की तरह रोजमर्रा की जिंदगी बिताते हुए दिख रहे हैं. एक ऐसा ही ताजा मामला जमालपुर का सामने आया है, जहाँ एक युवती के पॉजिटिव रिपोर्ट आने बाद उसके परिजन उसे क्वींस हाॅस्टल जमालपुर आइसोलेशन सेंटर लेकर पहुँचे. यहां मौजूद अधिकारियों ने सरकार के गाइलाइन के मुताबिक उन्हें होम आइसोलेशन में रहने की बात कहकर वापस कर दिया. इसके बाद पॉजिटिव युवती अपने परिवार के साथ किराऐ के मकान में रहने लगी. इस मकान के एक ही ऑगन में 10-12 परिवार के सदस्य रहते हैं. इस कारण आसपास के लोगों ने विरोध शुरू कर दिया. विरोध के बाद परिवार वालों ने उक्त युवती को पास के ही एक झोपड़ीनुमा आवास में रहने के लिए भेज दिया. शैचालय व पेयजल की व्यवस्था नहीं होने के कारण काफी परेशानी बढ़ गयी. संसाधन एवं जानकारी के अभाव में संक्रमित मरीज होम आइसोलेशन के नियमों एवं शर्तों का पालन नहीं कर पा रहे हैं. इस संबंध में पूछने पर सीएस ने बताया कि उक्त युवती जानकारी एवं संसाधन के अभाव में इस नियमों व शर्तो का पालन नहीं कर पाई थी. युवती को हरसंभव स्वास्थ्य व प्रशासनिक मदद की जाएगी. एवं उक्त  लड़की को आइसोलेशन केंद्र में रखकर ईलाज किया जा रहा है । 

क्या है होम आइसोलेशन के नियम एवं शर्त: 
संक्रमित मरीजों को होम आइसोलेट होने के पूर्व लोकल पीएचसी में एक शपथ-पत्र भर कर देना होगा. इसके बाद सरकार के आदेशानुसार अलग शौचालय,बाथरूम, आवास समेत ट्रिपल लेयर वाला मास्क, एवं सामान्य लोगों से पुरी तरह अलगाव होकर रहना पड़ेगा और नियमित रूप से लगातार साबुन,सेनेटाइज का उपयोग करना होगा. साथ ही चिकित्सीय परामर्श का हरसंभव पालन करना होगा

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here